Wednesday, 4 March 2015

RACHANA KE ANUSAR VAKYA KE BHED - रचना के अनुसार वाक्य के भेद



रचना के अनुसार वाक्य के निम्नलिखित तीन भेद हैं ==>
 
१ - सरल वाक्य ।
२ - संयुक्त वाक्य ।
३ - मिश्र वाक्य ।


१ - सरल वाक्य
==> जिस वाक्य में केवल एक ही क्रिया हो, वह सरल या साधारण वाक्य कहलाता है।
जैसे==>

 चिड़िया उड़ती है ।  श्रेयांश पतंग उड़ा रहा है ।      गाय घास चरती है ।

२ - संयुक्त वाक्य
==> जब दो अथवा दो से अधिक सरल या साधारण वाक्य किसी सामानाधिकरण योजक  (और - एवम् - तथा , या - वा -अथवा, लेकिन -किन्तु - परन्तु आदि) से जुड़े होते हैं, तो वह संयुक्त वाक्य कहलाता हैं।
 
जैसे==> 

 (अ) - चन्दन खेल कर आया और सो गया ।

(ब) - मैंने उसे बहुत मनाया परन्तु वह नहीं मानी ।



 (स) - कम खाया करो अन्यथा मोटे हो जाओगे ।




३ - मिश्र वाक्य ==> जब दो अथवा दो से अधिक सरल या संयुक्त वाक्य किसी व्यधिकरण योजक  (यदि...तो , जैसा...वैसा, क्योंकि...इसलिए , यद्यपि....तथापि ,कि आदि ) से जुड़े होते हैं, तो वह मिश्र या मिश्रित वाक्य कहलाता है।
ऐसे वाक्य में एक प्रधान (मुख्य) उपवाक्य और एक या एक से अधिक आश्रित उपवाक्य होते हैं।
 
जैसे ==>


(अ) - यदि अधिक दौड़ोगे तो थक जाओगे।
(ब) -यद्यपि मैंने उसे बहुत मनाया तथापि वह नहीं    माना।


(स) - जैसा काम करोगे वैसा फल मिलेगा।


(द) - क्षितिज ने बताया कि वह पटना जाएगा ।

 

मिश्र या मिश्रित वाक्य के दो भेद होते हैं
==>

(क) प्रधान  उपवाक्य ==> किसी वाक्य में जो उपवाक्य किसी पर आश्रित नहीं होता अर्थात् स्वतंत्र होता है एवम् उसकी क्रिया मुख्य होती है , वह मुख्य या प्रधान उपवाक्य कहलाता है। 

जैसे==> 

                 मोदी जी ने कहा कि अच्छे दिन आएँगे।

इस वाक्य में ‘मोदी जी ने कहा’ प्रधान उपवाक्य है।

(ख) आश्रित उपवाक्य
==> किसी वाक्य में जो उपवाक्य दूसरे उपवाक्य पर निर्भर होता है अर्थात् स्वतंत्र नहीं होता है एवम् किसी न किसी व्यधिकरण योजक से जुड़ा होता है , वह आश्रित उपवाक्य कहलाता है।

जैसे==>  


               मोदी जी ने कहा कि अच्छे दिन आएँगे।
इस वाक्य में ‘अच्छे दिन आएँगे। आश्रित उपवाक्य है।

आश्रित उपवाक्य के तीन भेद होते हैं
==>
(अ) - संज्ञा आश्रित उपवाक्य ==> किसी वाक्य में जो आश्रित उपवाक्य किसी दूसरे (प्रधान) उपवाक्य की संज्ञा हो अथवा कर्म का काम करता हो , वह संज्ञा आश्रित उपवाक्य कहलाता है।
यह ‘कि’ योजक से जुड़ा रहता है।


जैसे==>
       रामदेव बाबा ने कहा है कि प्रतिदिन योग करना चाहिए। 
इस वाक्य में ‘प्रतिदिन योग करना चाहिए।’ संज्ञा आश्रित उपवाक्य है। क्योंकि यह उपवाक्य ‘कि’ योजक से तो जुड़ा ही है , साथ ही प्रधान उपवाक्य ‘रामदेव बाबा ने कहा है’ के ‘क्या कहा है?’ का जवाब भी है , अर्थात् कर्म भी है। अत: यह संज्ञा आश्रित उपवाक्य है।

(ब) - विशेषण आश्रित उपवाक्य
==> किसी वाक्य में जो आश्रित उपवाक्य किसी दूसरे (प्रधान) उपवाक्य के संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताता हो ,वह विशेषण आश्रित उपवाक्य कहलाता है।
यह ‘जो ,जिस, जिन’ योजकों से आरम्भ होता है।

 
जैसे==>



(अ) - जो दुबला - पतला लड़का है उसे कमज़ोर मत समझो ।

(ब) - जिस लड़के का (जिसका) मन पढ़ाई में नहीं लगता, वह मेरा दोस्त नहीं हो सकता।




(स) - जिन लोगों ने (जिन्होंने) मेहनत किया , वे अवश्य सफल होंगे। 

इन वाक्यों में ‘जो ,जिस जिन’  से आरम्भ होनेवाले उपवाक्य अर्थात् ‘जो दुबला - पतला लड़का है’ , ‘जिस लड़के का (जिसका) मन पढ़ाई में नहीं लगता’ तथा ‘जिन लोगों ने (जिन्होंने) मेहनत किया’ अंशवाले उपवाक्य विशेषण आश्रित उपवाक्य हैं।

(स) - क्रियाविशेषण आश्रित उपवाक्य ==> किसी वाक्य में जो आश्रित उपवाक्य किसी दूसरे(प्रधान) उपवाक्य के क्रिया की विशेषता बताता हो , वह क्रियाविशेषण आश्रित उपवाक्य कहलाता है।
यह ‘जब , जहाँ, जैसे , जितना’ योजकों से आरम्भ होता है।


जैसे==>



(अ) - जब घटा घिरने लगी , तब मोर नाचने लगा


(ब)-जहाँ बस रुकती है,वहाँ बहुत लोग खड़े रहते हैं।

(स)- जैसे ही पाकिस्तान हारा,लोग टीवी तोड़ने लगे ।


(द) - जितना कहा जाय , उतना ही किया करो।



इन वाक्यों में ‘जब , जहाँ, जैसे , जितना’ से आरम्भ होनेवाले उपवाक्य अर्थात् ‘जब घटा घिरने लगी,’ ‘जहाँ बस रुकती है’ , ‘जैसे ही पाकिस्तान हारा’ तथा ‘जितना कहा जाय’ अंशवाले उपवाक्य क्रियाविशेषण आश्रित उपवाक्य हैं।      


*******************************************************
॥ इति - शुभम् ॥
विमलेश दत्त दूबे ‘स्वप्नदर्शी’

रचना के आधार पर वाक्य का परिवर्तन ==>==> क्रमश : अगले पोस्ट में ==>==>
*******************************************************

47 comments:

  1. proved very much helpful for my holiday homework

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thnankssssssssssss ,👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍

      Delete
  2. What is difference between vyadhikaran yojak and samanadhikaran yojak

    ReplyDelete
    Replies
    1. समानाधिकरण योजक को समझने के लिए एकल योजक भी कह सकते हैं। जैसे- और,तथा एवं, लेकिन , किन्तु,परन्तु आदि। इसका प्रयोग केवल और केवल संयुक्त वाक्य में होता है।

      उदाहरण- राम आया और श्याम गया। यहाँ ‘और’ समानधिकरण योजक है।

      जबकि व्यधिकरण योजक को जुड़वा योजक भी कहा जा सकता है। क्योंकि दो योजक एक साथ प्रयुक्त होते हैं। इसका प्रयोग केवल और केवल मिश्र / मिश्रित वाक्य में ही होता है।

      उदाहरण- यदि नहीं पढ़ोगे तो फ़ेल हो जाओगे। यहाँ ‘यदि... तो’ व्यधिकरण योजक है।

      Delete
  3. Thank You so much for this sir~

    Its been very useful~

    ReplyDelete
  4. It's something you can't buy anywhere .it's really helpful.

    ReplyDelete
  5. Truly thanking you bimlesh ji.
    Today is my Sa2 exam and I don't have wyakaran book also no Hindi teacher.
    Thank-you for being my teacher

    ReplyDelete
  6. Good. very good

    ReplyDelete
  7. "modi ji ne kaha hai ki achchhe din aane wale hain"

    (i am taking pradhan upavakya as main clause and aashrit upavakya as subordinate clause)

    if itranslate this in english, which makes it
    "modi ji said that good days are about to come"
    my english grammar book says:
    "modi ji said" is a subordinate clause
    and "good days are about to come" is the main clause
    but here it says:
    "modi ji ne kaha" is pradhan upavakya
    and "achchhe din aane wale hain" is aashrit upavakya

    i am confused... will someone explain me???

    ReplyDelete
  8. Thank you so much sir
    This helped me in completing my book

    ReplyDelete
  9. NICE ONE FOR MY EXAM PREPARATION

    ReplyDelete
  10. ANY APPLICATION RELATED YOUR GRAMMAR EDUCATION SIR

    ReplyDelete
  11. Nice one...thanks for your help sir

    ReplyDelete
  12. thank you it helped me a little
    I do not have in such detail in my book
    rest thanks nicely explained

    ReplyDelete
  13. It is very helpful for me THX SIR

    ReplyDelete
  14. It is very helpful for me to understand the concept

    ReplyDelete
  15. Mishra vakya main use hone wale yojako ki ruchi bataye

    ReplyDelete
  16. Mishra vakya main use hone wale yojako ki ruchi bataye

    ReplyDelete
  17. Mishra vakya main use hone wale yojako ki ruchi bataye

    ReplyDelete
  18. saral misrit aur sayunkt mai badaliye =1surya nikala andhera doore ho gaya panchhe chah chane lage

    ReplyDelete
  19. saral sayukt or mishre baakye mai badaliye =majdoor ne kaam kiya majadorr ne paise liye majadoor ghar chala gaya

    ReplyDelete
  20. saral sayukt or mishrit mai badaliye =khatra nai kaapiya li bag mai daali khattra padhne challa gaya

    ReplyDelete
  21. Very well explained ...
    i must this is so very accurate and helpful.
    it definitely helped me to pass .
    This eulogises knlwledge and spreads it ..which is a great task.
    ��simply its great and easy��

    ReplyDelete
  22. बहुत बहुत धन्यवाद जी बहुत अच्छी तरह से समझाया है आपने

    ReplyDelete
  23. धन्यवाद।।।।।।बोहोत।।।।मजा।।।।।आ।।।।गया।।।।

    ReplyDelete
  24. धन्यवाद।।।।।।बोहोत।।।।मजा।।।।।आ।।।।गया।।।।

    ReplyDelete
  25. Bhut hi nakli information is se acha book se pad lete

    ReplyDelete
  26. Thanks so much...tommorow is my exam..it helps me a lot

    ReplyDelete
  27. Thank u Aapne meri zindagi badal di.....pehle mera padhai me mun nhi lagta tha par jabse maine ye padha tab se mai bahut intelligent ho gya hu aur ab mai rahul gandhi se bada chutiya nahi raha! Thanks!

    ReplyDelete
  28. Ayooooo! thanks nigga and keep on doin' this good and hadwork! cheers mate, peace out biyatch

    ReplyDelete
  29. kokoyori sekhai ni O itami O - SHINRA TENSEI

    ReplyDelete